Hindi All India World

Hindi All India World Best Information

Gaay ka ghee aur bhes ka ghee कौन-सा घी स्वास्थ्य के लिए सबसे अच्छा है?

Gaay ka ghee aur bhes ka ghee: कैसे पता करें कि कौन-सा घी स्वास्थ्य के लिए सबसे अच्छा है? गाय का घी बनाम भैंस का घी, desi ghee benefits गाय के घी और भैंस के घी में अंतर, is ghee good for health आयुर्वेदिक पद्धति से Ghee Ke Fayde Aur Nuksan के बारे में जानते हैं।

Gaay ka ghee aur bhes ka ghee
Gaay ka ghee aur bhes ka ghee

गाय के घी और भैंस के घी में अंतर (Gaay ka ghee aur bhes ka ghee)

आयुर्वेदिक पद्धति से इलाज करने वाले सभी डॉक्टर अपने मरीजों को घी (Ghee) खाने की सलाह देते हैं, सिवाय उन मामलों को छोड़कर जहाँ रोगी के लिए चिकनाई लेना मना है। मां, दादी और दादी भी घर में देसी घी खाने की सलाह (Desi ghee benefits) देती हैं। कई बार इनके साथ घी न खाने की वजह से हमारा झगड़ा हो जाता है।

क्योंकि ज्यादातर युवा यही सोचते हैं कि घी का मतलब फैट होता है और फैट का मतलब वजन बढ़ना। जबकि ऐसा नहीं है। क्योंकि घी के बारे (Ghee Ke Bare Me) में ऐसी सोच अधूरी जानकारी के कारण ही होती है। अगर कोई आपसे कहे कि घी खाने से चर्बी कम नहीं होती है!

तो आप निश्चित रूप से इस पर विश्वास नहीं करेंगे। यहाँ आपको गाय और भैंस के घी (Gaay ka ghee aur bhes ka ghee) में अंतर बताया जा रहा है, साथ ही बताया जा रहा है कि स्लिम होने के लिए कौन-सा घी खाना चाहिए और weight बढ़ाने की चाहत रखने वालों को कौन-सा घी खाना चाहिए?

गाय का घी खाने के फायदे (Gaay ke Ghee)

1-गाय का घी (Gay ke Ghee) कई तरह के विटामिन से भरपूर होता है। इसके सेवन से विटामिन-ए, डी, ई, के और एंटीऑक्सीडेंट प्राप्त होते हैं।

2-Cow ke Ghee खाने से जल्दी बुढ़ापा और कुछ प्रकार के कैंसर से भी बचाव होता है। क्‍योंकि इसमें पाए जाने वाले एंटीऑक्‍सीडेंट फ्री रेडिकल्स की मात्रा को बढ़ने नहीं देते हैं। ये फ्री रेडिकल्स शरीर को अंदर से नुकसान पहुँचाने का काम करते हैं।

3-गाय का घी वजन कम करने का काम करता है क्योंकि यह Body में अतिरिक्त चर्बी को जमा नहीं होने देता है।

भैंस का घी खाने के फायदे (Bhains ka ghee)

1-भैंस के दूध (Bhains ke Doodh) से बना घी मोटापा बढ़ाने का काम करता है। (Motapa Kam kaise) यह उन लोगों के लिए बहुत अच्छा है जो बहुत दुबले-पतले हैं और वजन बढ़ाना चाहते हैं।

2-Bhains ka ghee हड्डियों को मजबूत करने का काम करता है। अगर आप बॉडी बिल्डिंग या मसल्स बिल्डिंग करना चाहते हैं तो भैंस का घी आपके लिए ज्यादा फायदेमंद होगा।

3-जिन लोगों को अधिक कमजोरी महसूस होती है और वे थके हुए हैं, उन्हें भी Bhains ka ghee का सेवन करना चाहिए। क्योंकि पोटेशियम-मैग्नीशियम और फास्फोरस जैसे गुण शरीर में रक्त के प्रवाह को बनाए रखते हैं और ऊर्जा के स्तर को बनाए रखने में madat करते हैं।

Gaay ka ghee aur Bhains ka ghee (गाय और भैंस के घी में अंतर)

1-गाय के घी का रंग हल्का पीला होता है जबकि भैंस के दूध से बना घी पूरी तरह सफेद होता है।

2-Gaay ka ghee में वसा न के बराबर होती है जबकि भैंस के घी में वसा की मात्रा अधिक होती है।

3-गाय के घी में विटामिन, खनिज और कैल्शियम पाया जाता है, जबकि भैंस के घी से मैग्नीशियम, पोटेशियम और फास्फोरस पाया जाता है।

4-भैंस के घी (Bhains ka ghee) में पोषक तत्व गाय के घी के मुकाबले काफी कम होते हैं।

Disclaimer:

इस लेख में वर्णित विधियों, विधियों और दावों को केवल Suggestion के रूप में लिया जाना है, Hindi All India World उनकी पुष्टि नहीं करता है। इस तरह के किसी भी उपचार / दवा / आहार और सुझाव का पालन करने से पहले, कृपया Doctor या सम्बंधित विशेषज्ञ से सलाह लें।

Read:- Aankho Ki Bimari के लिए भोजन ।। विटामिन से भरपूर आहार आँख की बीमारी करे फायदा